बड़ी खबर : कमजोर प्रचार रणनीति से हारी कांग्रेस : हरक

बड़ी खबर : कमजोर प्रचार रणनीति से हारी कांग्रेस : हरक

इंफो उत्तराखण्ड /देहरादून

विधानसभा चुनाव के नतीजों ने पूर्व काबीना मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत के 40 साल के राजनीतिक अनुभव को भी फेल कर दिया।

रावत को उम्मीद थी कि इस चुनाव में 38 से 40 सीटें आएंगी, लेकिन आईं केवल 19 ही आई। रावत ने साफगोई से यह भी स्वीकार किया वो भाजपा नहीं छोड़ना चाहते थे लेकिन भाजपा ने ही उन्हें छोड़ दिया। हरक ने कहां की कमजोर रणनीति से हारी कांग्रेस।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : शिक्षा विभाग में एल०टी० शिक्षकों के स्थानांतरण (transfer)। देखें सूची

राजीव भवन में मीडिया से बातचीत में हरक ने ईवीएम पर भी सवाल उठाए। कहा कि, ईवीएम के बजाए बैलेट पेपर की पुरानी परंपरा से ही होने चाहिए। इसमें गड़बड़ी की पूरी संभावना है। चुनाव नतीजों के बाद हरक का भविष्य क्या है ? इस सवाल के जवाब में हरक ने कहा कि अब वो जनता के लिए संघर्ष करते रहेंगे। कहा कि, वो भाजपा को छोड़ना नहीं चाहते थे, लेकिन भाजपा ने ही मुझे हटा दिया। अब हटा तो कुछ तो करना ही था।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : DM के निर्देश पर, यहां जिला प्रशासन ने अवैध खनन में लिप्त पांच वाहनों को किया जब्त

अब कांग्रेस में हूं तो कांग्रेस कार्यकर्ता की तरह काम करूंगा। हरक ने समय पर टिकट घोषित न करने, कमजोर प्रचार रणनीति, जनता तक अपनी बात ले जाने में नाकामी को विस चुनाव में हार का एक अहम कारण बताया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी (LBSNA) में आयोजित अमृत महोत्सव डिजिटल प्रदर्शनी व "आजादी का अमृत महोत्सव" में किया प्रतिभाग : गणेश जोशी

 

यह भी पढ़े : बिग ब्रेकिंग : धामी की पहली कैबिनेट बैठक में हो सकते हैं अहम फैसले। पढ़े,,, 

 

यह भी पढ़े:बड़ी खबर : अब स्कूलों में मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करेंगे शिक्षक। पढ़े आदेश

उत्तराखंड