उत्तराखंड

बड़ी खबर: मानवीय चूकों का परिणाम भीषण हादसे, हादसों में मौतों का जिम्मेदार कौन? …पढ़िए पूरी खबर 

Join our WhatsApp Group

मानवीय चूकों का परिणाम भीषण हादसे, हादसों में मौतों का जिम्मेदार कौन ? पढ़िए पूरी खबर 

हादसा चाहे कोई सा भी हो मानवीय चूकों का परिणाम होता है। सड़क, रेल, आग्निकांड जैसे हादसों के बारे में आए दिन खबरें पढ़ने-सुनने व देखने को मिलती ही रहती हैं। प्रतिवर्ष अनगिनत लोग विभिन्न प्रकार के हादसों में अपनी जान गवां बैठते हैं।

मनुष्य का स्वभाव ऐसा है, कि अपनी गलती होते हुए भी स्वीकारता नहीं। दोष भगवान पर थोप दिया जाता है। बार-बार उन गलतियों को दोहराता रहता है। गलतियों से सबक लेने को तो मनुष्य शायद महापाप मानता है। उसकी थोड़ी-सी चूक चाहे कितनी जानें लील ले उसे किसी प्रकार का पश्चाताप नहीं होता। पछतावा तब होता है जब किसी प्रकार का भीषण हादसा उसके व उसके अपनों के साथ घटित हो जाए।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड : शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुई पीसीएस–प्री की परीक्षा (PCS-Pre exam)

किसी भी हादसे का उदाहरण ले लें। जैसाकि ताजा हादसा ओड़िशा के बालासौर रेल दुर्घटना पर ही नजर डालें तो दो यात्री और एक मालगाडी के पटरी से उतर जाने के कारण कई लोग घायल हो गए, और 250 से अधिक मौत के मुंह में समा गए।

यह पहला हादसा नहीं बल्कि अन्य भी खतरनाक हादसे हुए हैं। 1981 में बिहार में ट्रेन नदी में जा गिरी थी। जिसमें लगभग 800 लोगों की मौत हुई थी। 1995 में पश्चिम बंगाल में ब्रह्मपुत्र मेल व अवध-असम मेल आपस में टकराई जिसमें 285 यात्रियों की मौत हुई।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी जीत : उपचुनाव में मिली जीत पर कांग्रेसियों ने मनाया जश्न, भाजपा को बड़ा झटका...

1995 में फिरोजाबाद में दो यात्री रेलों की टक्कर हुई जो 250 यात्रियों की जिंदगी ले बैठी। 2010 में पश्चिम बंगाल में ज्ञानेश्वरी एक्सप्रैस पटरी से उतरी थी। जिसमें 170 यात्री अपनी जान से हाथ धो बैठे। 2016 में इंदौर-पटना एक्सप्रैस की चौदह बोगी पटरी से उतरी थी जिसमें लगभग 125 यात्री मौत के मुंह में समा गए थे।

इसके अलावा अन्य भी दुर्घटनाएं घटी। इसी प्रकार से देश में जितनी सड़कों का विस्तारीकरण व नौडीकरण हो रहा है। सड़क हादसे उतने ही अधिक घट रहे हैं। आखिर कमी तो इंसान के अंदर ही है, जो अपने कार्य और कर्तव्य के प्रति समर्पित नहीं रहता।

यह भी पढ़ें 👉  उपलब्धि : देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने जीता Skoch Award 2024, जल प्रबंधन प्रणाली हेतु दिया गया अवार्ड

हरेक यही सोचता है, कि मैं तो जिंदा हूं दूसरों से क्या लेना-देना। जब तक यह भावना मन में रहेगी तब तक इंसान कोई न कोई चूक करता ही रहेगा। जबकि, मनुष्य को दूसरों की जान लेने का कोई हक नहीं है। यदि मनुष्य अपनी छोटी-छोटी भूलों की तरफ ध्यान दे तो बड़ी भूलें होंगी ही नहीं।

रिपोर्ट- ओम प्रकाश उनियाल

"सूचीबद्ध न्यूज़ पोर्टल"

सूचना एवं लोक संपर्क विभाग, देहरादून द्वारा सूचीबद्ध न्यूज़ पोर्टल "इंफो उत्तराखंड" (infouttarakhand.com) का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड सत्य की कसौटी पर शत-प्रतिशत खरा उतरना है। इसके अलावा प्रमाणिक खबरों से अपने पाठकों को रुबरु कराने का प्रयास है।

About

“इन्फो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) प्रदेश में अपने पाठकों के बीच सर्वाधिक विश्वसनीय न्यूज पोर्टल है। इसमें उत्तराखंड से लेकर प्रदेश की हर एक छोटी- बड़ी खबरें प्रकाशित कर प्रसारित की जाती है।

आज के दौर में प्रौद्योगिकी का समाज और राष्ट्र के हित में सदुपयोग सुनिश्चित करना भी आपने आप में चुनौती बन रहा है। लोग “फेक न्यूज” को हथियार बनाकर विरोधियों की इज्ज़त, और सामाजिक प्रतिष्ठा को धूमिल करने के प्रयास लगातार कर रहे हैं। हालांकि यही लोग कंटेंट और फोटो- वीडियो को दुराग्रह से एडिट कर बल्क में प्रसारित कर दिए जाते हैं। हैकर्स बैंक एकाउंट और सोशल एकाउंट में लगातार सेंध लगा रहे हैं।

“इंफो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) इस संकल्प के साथ सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर उतर रहा है, कि बिना किसी दुराग्रह के लोगों तक सटीक जानकारी और समाचार आदि संप्रेषित किए जाएं। ताकि समाज और राष्ट्र के प्रति जिम्मेदारी को समझते हुए हम अपने उद्देश्य की ओर आगे बढ़ सकें। यदि आप भी “इन्फो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) के व्हाट्सऐप व ईमेल के माध्यम से जुड़ना चाहते हैं, तो संपर्क कर सकते हैं।

Contact Info

INFO UTTARAKHAND
Editor: Neeraj Pal
Email: [email protected]
Phone: 9368826960
Address: I Block – 291, Nehru Colony Dehradun
Website: www.infouttarakhand.com

To Top