Big Breaking : हरिद्वार में एक साथ गिरे बिजली के 4 खंभे, बाल-बाल बची राहगीरों की जान

Big Breaking : हरिद्वार में एक साथ गिरे बिजली के 4 खंभे, बाल-बाल बची राहगीरों की जान

हरिद्वारः कनखल क्षेत्र की पॉश कॉलोनियों में शुमार सर्वप्रिय विहार में उस समय हड़कंप मच गया, जब एक के बाद एक बिजली के 4 खंभे जमीन पर आ गिरे। इस दौरान एक खंभा मोहल्ले में खड़ी गाड़ी पर भी गिरा। जिससे कार क्षतिग्रस्त हो गई।

गनीमत रही कि 5 मिनट पहले ही कार सवार परिवार गाड़ी से उतर गया था। जिससे बड़ा हादसा होने से टल गया। जिस समय यह घटना हुई, उस समय कई लोग सड़क पर टहल भी रहे थे। जो किस्मत से बच गए।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : महिलाओं व बच्चों को लेकर रेखा आर्य (Rekha Arya) ने कही यह बात। देखिए वीडियो...

कहने को हर बार कुंभ में हरिद्वार की खस्ताहाल सड़कों के साथ ऐसी बिजली के खंभों को भी बदलने का काम विद्युत विभाग करता है। जिनकी हालत जर्जर है, लेकिन इस बार शायद यह काम नहीं किया गया। यही कारण है कि कनखल की कॉलोनियों में शुमार सर्वप्रिय विहार में मंगलवार शाम उस समय बिजली के चार खंभे भरभरा कर गिर गए। जिस दौरान इन पर काम चल रहा था। हालांकि, काम के चलते लाइन में करंट काट दी गई थी।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : स्वास्थ्य मंत्री को सोशल मीडिया में मिली शिकायत तो अचानक औचक निरीक्षण पर पहुंचे अस्पताल। डॉक्टर और कर्मचारियों में हड़कंप

इनमें से एक खंभा मोहल्ले में खड़ी कार पर भी जा गिरा. बस गनीमत यह रही कि उसमें कार मालिक निकलकर घर गया था। जिससे वो खंभे की चपेट में आने से बच गया। वहीं, मोहल्ले में काफी लोग घूम भी रहे थे, जो बाल-बाल चोटिल होने से बचे। स्थानीय लोगों का कहना है कि काफी समय से यह बिजली के खंभे जर्जर हालत में थे। विद्युत विभाग को कई बार कहने के बावजूद इन्हें नहीं बदला गया था।

क्या कहते हैं क्षेत्रवासी:

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : शिक्षा विभाग में एल०टी० शिक्षकों के स्थानांतरण (transfer)। देखें सूची

स्थानीय निवासी मयंक शर्मा का कहना है कि 10 साल पहले मोहल्ले के जर्जर खंभों को बदला गया और उनकी जगह नए खंभे लगाए गए थे, लेकिन ये खंभे 10 साल भी नहीं चल पाए और आज इनमें से चार खंभे धराशायी हो गए। इसमें एक कार क्षतिग्रस्त हुई है। जबकि, राहगीर भी हादसे में बच गए। मामले में स्थानीय पार्षद व बीजेपी विधायक को भी अवगत कराया गया था, लेकिन किसी ने इस संबंध में कोई संज्ञान नहीं लिया।

उत्तराखंड