उत्तराखंड

ब्रेकिंग: विवादित बयानों पर कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य ने दी सफाई, विपक्ष पर साधा निशाना 

Ad

कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य ने की प्रेसवार्ता, विपक्ष पर साधा निशाना

विपक्ष को अच्छे कार्यो में भी दिखाई देती है नकारात्मकता-रेखा आर्य

विभागीय पत्र में स्वेच्छा से जलाभिषेक का दिया गया है निमंत्रण-रेखा आर्य 

देहरादून/इंफो उत्तराखंड 

आज यमुना कॉलोनी स्थित कैम्प कार्यालय में महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने प्रेसवार्ता की। प्रेसवार्ता में मंत्री रेखा आर्य ने आंगनबाड़ी बहनों/विभागीय अधिकारियों/कर्मचारियों को जारी किए गए पत्र पर अपनी बात रखी। मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि विभाग द्वारा जारी पत्र को लेकर कई तरह की भ्रांतियां फैलाई जा रही हैं।

यह भी पढ़ें 👉  गुड न्यूज : UKPSC ने इस भर्ती परीक्षा का Admit card किया जारी, ऐसे करें डाउनलोड

कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य ने कहा की विभाग द्वारा जारी पत्र में कहीं पर भी यह नही कहा गया है कि अगर कोई भी शिवालयों में जलाभिषेक नही करेगा तो सम्बंधित व्यक्ति पर कार्यवाही की जाएगी। महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि यह सभी लोगों की स्वेच्छा पर निर्भर करता है कि वह अपने नजदीकी शिवालयों में जलाभिषेक करें अथवा ना करें।

इस दौरान मंत्री रेखा आर्य ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। कैबिनेट मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि विपक्ष का काम सिर्फ भ्रांति  फैलाना है, मंत्री रेखा आर्य ने साथ ही कहा कि विपक्ष का काम अच्छाई में भी बुराई ढूंढने का है।

यह भी पढ़ें 👉  ग्राम पंचायतों में आ रही समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन, शीघ्र ही मांगे पूरी न होने पर प्रधान संगठन ने दी उग्र आंदोलन की चेतावनी 

उनके द्वारा लिया गया यह संकल्प पवित्र है जिसमें कहीं ना कहीं लैंगिक असमानता को समानता की ओर लाने पर कार्य किया जा रहा है। मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि उनकी यह कोशिश है कि जब उत्तराखंड अपना रजत जयंती वर्ष मना रहा हो तब देवभूमि में लिंगानुपात हजार बालको पर हजार बालिकाओ का हो।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : BJP ने चार मोर्चा के जिला अध्यक्षों की घोषणा, इन्हें मिली नई कमान, देखें लिस्ट

अपनी 25 किलोमीटर की पैदल कांवड़ यात्रा को लेकर कैबिनेट मंत्री ने कहा कि उनकी तरफ से समाज के सभी लोगों को इस पुनीत कार्य मे भागीदारी बनने के लिए आमंत्रित किया जाता है।

मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि इस कांवड़ यात्रा के जरिये उनकी कोशिश है कि समाज मे बेटियो के प्रति फैली दुर्भावना को खत्म किया जाए और उत्तराखंड जिसे की हम देवभूमि कहते हैं वहां पर बेटियों को देवी के समान अधिकार मिले और वह भी समाज मे लड़कों के बराबर खड़ी हो सकें।

To Top