Big Breaking : त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में आरक्षण की अधिसूचना का कांग्रेस ने किया जमकर विरोध! संयुक्त मुख्य चुनाव अधिकारी को सौंपा ज्ञापन

Big Breaking : त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में आरक्षण की अधिसूचना का कांग्रेस ने किया जमकर विरोध! संयुक्त मुख्य चुनाव अधिकारी को सौंपा ज्ञापन

देहरादून: कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल के नेतृत्व में आज कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल ने निर्वाचन आयोग से मुलाकात की। उन्होंने हरिद्वार जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए जिलाधिकारी द्वारा दिए गए आरक्षण को लेकर शिकायत दर्ज की। इस संबंध में उन्होंने संयुक्त मुख्य चुनाव अधिकारी प्रताप शाह को एक ज्ञापन सौंपा।

मीडिया से मुखातिब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि ये आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को जानकारी मिली है कि जिलाधिकारी ने आरक्षण को लेकर प्रक्रिया आगे बढ़ाई है। जबकि राज्य में आदर्श आचार संहिता लागू है। जिसको लेकर कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल ने राज्य निर्वाचन आयोग से मुलाकात की है।

यह भी पढ़ें 👉  गुड न्यूज : उत्तराखंड पुलिस (कांस्टेबल) भर्ती प्रक्रिया में छूटे हुए युवाओं को एक और मौका। देखें कब से होंगे शारीरिक दक्षता

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार से प्रभावित होकर जिलाधिकारी इस मामले में कार्रवाई को आगे बढ़ा रहे हैं। गणेश गोदियाल का कहना है कि किसी भी अधिकारी को इन चीजों में नहीं पड़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि मौखिक रूप से आयोग ने कहा है कि यह कार्रवाई अभी आगे नहीं बढ़ेगी, जब तक भारत निर्वाचन आयोग इस को मंजूरी नहीं दे देता है। उन्होंने कहा कि 10 मार्च के बाद इस मामले में निर्णय लेना उचित होगा।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर : यहां गंगा किनारे घाट पर शराब का सेवन करने वालों को पुलिस ने सिखाया सबक। 03 युवाओं का काटा चालान 

गणेश गोदियाल ने इस संबंध में कहा कि जब तक प्रदेश में चुनाव गतिमान हैं और नई सरकार का गठन नहीं हो जाता है, ऐसे में नीतिगत निर्णय लेना सही नहीं है। इस संबंध में संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रताप साहू ने कहा कि इस मामले में कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने आकर इसकी शिकायत की है।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर : खाद्य मंत्री रेखा आर्य ने तलब की सचिन कुर्वे की गोपनीय प्रवष्टि से सम्बंधित मूल पत्रावली। देखें आदेश

उस पर हरिद्वार के जिलाधिकारी द्वारा पूर्व में ही परामर्श किया गया था और उनको बीते दिन ही परामर्श दिया जा चुका है। उन्होंने कहा कि जब तक भारत निर्वाचन आयोग से कोई परामर्श प्राप्त नहीं होता है तब तक इसे स्थगित रखा जाए।

उत्तराखंड