CM धामी vs हरदा : मुस्लिम यूनिवर्सिटी वाले बयान पर गर्माती सियासत…

CM धामी vs हरदा : मुस्लिम यूनिवर्सिटी वाले बयान पर गर्माती सियासत…

देहरादून/इन्फो उत्तराखंड

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है वैसे वैसे चुनावी गर्मी बढ़ती जा रही है, सभी पार्टियां अपने वॉयरस को लुभाने के लिए अलग अलग वादे कर रही है इसी कड़ी में मुस्लिम यूनिवर्सिटी को लेकर सामने आए इस बयान के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत आमने सामने आ गए हैं।

बताया जा रहा है कि ये बयान अकील अहमद का है, जो कि देहरादून जिले के सहसपुर के रहने वाले हैं। भाजपा ने अपने सोशल मीडिया पेज पर अकील अहमद को कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष बनाए जाने का लेटर अपलोड किया है, जिसमें अकील अहमद कह रहे हैं कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत से उनका समझौता इसी बात पर हुआ है कि राज्य में मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनेगी।

 

वहीं इस बयान पर उत्तराखंड के CM पुष्कर सिंह धामी ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा है कि कांग्रेस के ‘चार धाम-चार काम’ बस यहीं रह गए हैं कि वह उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनवाएंगे।

सोशल मीडिया पर डाला गया बयान

अकील अहमद ने उनका एक बयान भी सोशल मीडिया पेज पर डाला है। इसमें अकील अहमद कह रहे हैं कि हरीश रावत ने उनसे वादा किया है कि उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना होगी। वीडियों में अकील अहमद कह रहे हैं कि उनका हरीश रावत से समझौता इसी बात पर हुआ है, कि राज्य में मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनेगी, जिसमें मुस्लिम बच्चे पढ़ सकें और शिक्षित हो सकें, आगे अकील अहमद कह रहे हैं कि हरीश रावत ने उनसे कहा है कि अगर वो CM बनते हैं, तो सारे काम होंगे ।

उधर, BJP ने सवाल उठाया है कि जिन लोगों ने देवप्रयाग में संस्कृत यूनिवर्सिटी बनाने का विरोध किया, वो ही लोग उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना करना चाहते हैं।

 

उत्तराखंड