दु:खद : यहां बाघ (Tiger) ने ग्रामीण को बनाया अपना निवाला। ग्रामीणों में दहशत

दु:खद : यहां बाघ (Tiger) ने ग्रामीण को बनाया अपना निवाला। ग्रामीणों में दहशत

खटीमा/इन्फो उत्तराखंड

खटीमा के सुरई रेंज के झाऊपरसा के जंगल से एक बड़ी दुखद घटना सामने आ रही है, जहां बुधवार सुबह घास लेने गई एक ग्रामीण पर बाघ ने हमला करके उसे मौत के घाट उतार दिया। जिसके बाद परिजनों में कोहराम मच गया।

 

मिली जानकारी के अनुसार बगुलिया निवासी उमाशंकर (40) पुत्र अलगू प्रसाद शारदा डैम क्षेत्र के झाऊपरसा गांव से सटे जंगल में घास काटने गया था। तभी काफी देर तक उमाशंकर घर वापस नहीं आया, तो परिजन व ग्रामीण उसे ढूढ़ने के लिए आस-पास के जंगल में चले गए। जिसके बाद उन्हें जंगल में उमाशंकर का क्षत-विक्षत शव मिला।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : उत्तराखंड वन विभाग में हुए बंपर ट्रांसफर (transfer)। देखें सूची

 

ग्रामीणों ने बताया कि बाघ ने उमाशंकर की गर्दन पर हमला किया था, जिसके बाद ग्रामीणों ने घटना की सूचना सुरई रेंज के वन क्षेत्राधिकारी सुधीर कुमार को दे दी। जिसके बाद डिप्टी रेंजर सतीश रेखाड़ी, सुखदेव मुनि, वन दरोगा सुंदर लाल वर्मा, अमर बिष्ट आदि मौके पर पहुंचे और घटना की सूचना उच्चाधिकारियों को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने पोस्टर्माटम के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया।

यह भी पढ़ें 👉  दु:खद : यहां पहाड़ी से आए मलबे की चपेट में एक वाहन दुर्घटनाग्रस्त, 10 लोग घायल, एक की मौत

 

रेंजर सुधीर कुमार ने बताया कि उमाशंकर अपने पीछे पत्नी ज्ञानी देवी, पुत्री आंचल, अनन्या और पुत्र सुमित को छोड़ कर चले गए। रेंजर ने कहा कि इसी बाघ ने दो सप्ताह पहले भी रोहित (50) पुत्र महाजनकों को मौत के घाट उतार दिया था। कहा कि बाघ को पकड़ने के लिए पिंजरे लगाए जा रहे है। और एक्सपर्ट की टीम भी ट्रैंक्यूलाइन के लिए बुलाई गई है।

उत्तराखंड