ब्रेकिंग : इंफो उत्तराखंड की खबर का असर, महाराज ने लिया भारी बारिश में हो रहे सड़क डामरीकरण मामले का संज्ञान। जांच के दिए आदेश

ब्रेकिंग : इंफो उत्तराखंड की खबर का असर, महाराज ने लिया भारी बारिश में हो रहे सड़क डामरीकरण मामले का संज्ञान। जांच के दिए आदेश

इंफो उत्तराखंड/ देहरादून

गत दिवस बारिश के दौरान पौड़ी जनपद के रिखणीखाल क्षेत्र में चल रहे डामरीकरण का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने कड़ी नाराजगी जताई है। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि कार्य की गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

बताते चलें कि गत दिवस रिखणीखाल क्षेत्र के देवियोंखाल में बारिश हो रही थी। बारिश के दौरान ही यहां एक कंपनी द्वारा डामरीकरण का कार्य करवाया जा रहा था। कुछ मीडिया कर्मियों ने बारिश में चल रहे डामरीकरण कार्य का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया। जिसके बाद यह मामला मीडिया की सुर्खियों में आ गया और इस तरह के कार्य पर सरकारी धन को ठिकाने लगाने जैसी बातें सामने आई।

“इंफो उत्तराखंड” ने भी पौड़ी के रिखणीखाल देवियोंखाल में “भारी बारिश में सड़क डामरीकरण की खराब गुणवत्ता के खिलाफ पीडब्ल्यूडी के अधिकारी-कर्मचारी” नामक शीर्षक खबर प्रकाशित की थी। जिसका संज्ञान लेते हुए कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने कड़ी नाराजगी जताते हुए उक्त मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने कहा कि उनके किसी भी विभाग में चल रहे निर्माण कार्यों में गुणवत्ता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा।

महाराज ने कहा कि बारिश में डामरीकरण किए जाने वाले प्रकरण की जांच के आदेश दिए गए हैं। जांच के बाद जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

पौड़ी : भारी बारिश में पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के गजब कारनामे 

देखें वीडियो :-

बताते चलें किधामी सरकार के वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज अपने कड़क मिजाज के लिए पहचाने जाते हैं। यही नहीं सख्त कार्यशैली के कारण उनके विभाग के अधिकारी-कर्मचारी अब काफी हद तक दुरुस्त भी आ गए हैं, किंतु जिस उदासीनता व अराजकता के लिए लोक निर्माण विभाग के अधिकारी-कर्मचारी जाने जाते हैं, अभी भी उनमें मंत्री के कड़क मिजाजी का खौफ नहीं दिखाई दे रहा है।

फलस्वरूप रिखणीखाल में बारिश में ही डामरीकरण का कार्य किया जाना इसका एक उदाहरण है।

बताते चलें कि सड़क में नमी के दौरान किया गया डामरीकरण ज्यादा टिकाऊ नहीं होता। इस तरह के निर्माण कार्य से सरकारी धन का दुरुपयोग किया जा रहा है।

बहरहाल, अब देखना यह होगा कि उक्त प्रकरण के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज द्वारा जांच के आदेश दिए के बाद दोषी अधिकारी-कर्मचारियों पर क्या कार्यवाही होती है।

उत्तराखंड