ब्रेकिंग : पूर्व सैनिक संगठन, पीबीओआर ने किया मंत्री गणेश जोशी का अभिनंदन

ब्रेकिंग : पूर्व सैनिक संगठन, पीबीओआर ने किया मंत्री गणेश जोशी का अभिनंदन

देहरादून/इंफो उत्तराखंड

पूर्व सैनिक संगठन, पीबीओआर द्वारा सैनिक कल्याण एवं कृषि मंत्री गणेश जोशी का स्वागत करने हेतु देवसुमन नगर स्थित अपने कार्यालय में एक अभिनंदन समारोह आयोजित किया। पीबीओआर पूर्व सैनिक संगठन थल सेना, वायु सेना और जल सेना के अधिकारी रैंक से नीचे के पूर्व सैनिकों का संगठन है।

 

 

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने उपस्थित पूर्व सैनिकों को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी ही एक ऐसी पार्टी है जो सैनिकों का सम्मान एवं हितों की रक्षा करती है। उत्तराखंड राज्य एक सैनिक बहुल्य राज्य है राज्य में लाखों की संख्या में सैनिक व पूर्व सैनिक और उनके परिवार निवास करते हैं। उन्होंने भाजपा को दोबारा मिले एतिहासिक जनादेश का श्रेय पूर्व सैनिकों को देते हुए कहा कि जिस राजनीतिक दल से पूर्व सैनिकों का दिल का रिश्ता होता है, उनकी सदैव विजय होती है।

 

 

भाजपा द्वारा वन रेंक वन पेंशन जो विगत 40 वर्षों से पूर्व सैनिकों की लंबित मांग थी, को एक झटके में पूरा कर दिया। कितनी सरकारें आईं और गईं परंतु सैनिकों की मांग जस की तस रही। मोदी सरकार ने आते ही पूर्व सैनिकों की मांग को पूरा करके देश के सैनिकों को एतिहासिक तोहफा दिया। इसके अलावा राष्ट्र द्वारा सैनिकों के हितों में जिस तेजी से काम किया जा रहा है उससे देश के समस्त सैनिकों की आस्था मोदी – धामी सरकार के प्रति और भी प्रगाढ़ हुई है।

 

 

पीबीओआर पूर्व सैनिक संगठन के केन्द्रीय अध्यक्ष पीटीआर शमशेर सिंह बिष्ट ने कहा कि यह एक सुखद इक्तेफाक है, कि इस सैनिक बहुल्य प्रदेश में महामहिम राज्यपाल भी एक पूर्व सैनिक हैं, मुख्यमंत्री भी एक सैनिक पुत्र हैं और सैनिक कल्याण महकमे के मंत्री भी एक पूर्व सैनिक हैं। राज्य में सैनिक कल्याण के लिए अभूतपूर्व कार्य किये जा रहे हैं। यह बहुत ही सौभाग्य की बात है कि आज हम पूर्व सैनिकों ने अपने पूर्व सैनिक भाई और कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी का अभिनन्दन समारोह अयोजित कर उन्हें सम्मानित कर रहे हैं।

 

 

कार्यक्रम में संगठन मंत्री कैप्ठन सुरेन्द्र सिंह बिष्ट, कार्यालय प्रभारी वाइडी शर्मा, कैप्टन विरेन्द्र थापा, सूबेदार, शंकर क्षेत्री टीबी सिसोदिया आदि समेत बड़ी संख्या में पूर्व सैनिक सम्मिलित रहे।

उत्तराखंड