Big Breaking : समाजवादी पार्टी का घोषणा पत्र हुआ जारी। देखिए बस एक क्लिक में

Big Breaking : समाजवादी पार्टी का घोषणा पत्र हुआ जारी। देखिए बस एक क्लिक में

समाजवादी पार्टी ने उत्तराखंड की सत्ता में आने पर हर महीने एक गैस सिलिंडर और बिजली-पानी के बिलों में 50 फीसदी की छूट का वादा किया है। मंगलवार को लखनऊ में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उत्तराखंड चुनाव के लिए घोषणा पत्र जारी किया।
सपा अध्यक्ष अखिलेश ने कहा कि विडम्बना है कि विगत 21 वर्षों से इस राज्य में कांग्रेस और भाजपा की सरकारों ने राज्य को भ्रष्टाचार की प्रयोगशाला बना दिया है। इनके शासनकाल में प्रदेश की प्रगति अवरुद्ध रही। जनता का हर वर्ग अपने भविष्य को असुरक्षित और अपमानित महसूस कर रहा है।
समाजवादी पार्टी एक स्वच्छ, भ्रष्टाचार मुक्त और विकासशील उत्तराखंड प्रदेश के निर्माण का वादा करती है। समाजवादी पार्टी सत्ता में आई तो समयबद्ध कार्य निष्पादन के साथ अधिकारियों की जवाबदेही तय होगी और गवर्नेंस की नई व्यवस्था होगी। पलायन रुकेगा, रोजगार मिलेगा, जल, जंगल और जमीन पर जनता का अधिकारी होगा।
ये हुए घोषणा पत्र के वादे :-
  • पर्वतीय क्षेत्रों में भू-बन्दोबस्त (चकबन्दी) प्रथम दो वर्षों में पूरा करना।
  • बंद पड़ी विद्युत परियोजनाओं को चालू कर उत्तराखंड को बिजली प्रदेश (विद्युत प्रदेश) बनाना। बिजली उत्पादक प्रदेश होने के नाते बिजली के कुल उत्पादन का 12 प्रतिशत राज्य को मुफ्त मिलने का प्रावधान है, उसे तथा मिलने वाली रायल्टी को मिलाकर उपभोक्ताओं को एक हिस्सा उपलब्ध कराया जाएगा।
  • उत्तराखंडवासियों को हर महीने एक गैस सिलिंडर और बिजली पानी के बिलों में 50 प्रतिशत की छूट दी जाएगी।
  • चाय बगानों को पुनजीवित किया जाएगा। पर्वतीय क्षेत्रों में जलवायु का अध्ययन कर नए चाय बगानों को लगाना और टी-बोर्ड की स्थापना।
  • तीर्थाटन गढ़वाल मंडल में अधिक होता है। यात्रा सीजन में जाम की स्थिति रहती है इसके लिए वैकल्पिक रूटों का सर्वे कर उनका निर्माण।
  • पर्वतीय क्षेत्रों में निवेश के लिए उत्तराखंड के प्रवासियों को वरीयता देना।
  • नैनीताल उच्च न्यायालय की एक बेंच की स्थापना देहरादून में करना ताकि उत्तरकाशी, पौड़ी, हरिद्वार, देहरादून के लोगों को नैनीताल न जाना पड़े।
  • प्रदेश के पट्टे धारकों तथा नजूल की भूमि में काबिज परिवारों के पट्टों पर काबिज लोगों को मालिकाना हक दिया जाना (भूमिधरी का अधिकार)।
  • प्रदेश में एक परिवार को एक निजी आवास बनाने के लिए रेत, लकड़ी, बजरी की मुफ्त व्यवस्था करना।
  • रेत/बजरी खदानों के पट्टे प्रदेश के बेरोजगार युवकों को दिया जाना।
  • वन कानून को लचीला बनाते हुए जंगली जानवरों से मृत्यु पर 25 लाख का मुआवजा तथा यदि फसल को क्षति होती है तो उसकी भरपाई।
  • समाजवादी सरकार के (2012-2017) कार्यों के उत्तर प्रदेश मॉडल पर उत्तराखंड का विकास सुनिश्चित करना।
  • भ्रष्टाचार मुक्त लोक प्रशासन।
  • उत्तराखंड के तीनों तत्वों -जल, जंगल, जमीन को संरक्षित करके प्रदेश के आर्थिक आधार को मजबूत किया जा सकता है। प्रदेश के इकलौते विश्व प्रसिद्ध कृषि विश्वविद्यालय को केंद्रीय विवि का दर्जा दिलाया जाएगा।
यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : प्रदेश अध्यक्ष ने कांग्रेस (Congress) कमेटी की मीडिया कमेटी को किया भंग। इन नेतागणों को मिली अहम जिम्मेदारी। देखें लिस्ट
उत्तराखंड