उत्तराखंड

ब्रेकिंग : छात्र-छात्राओं को नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकें उपलब्ध न कराए जाने पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों को मिली वार्निंग। देखें आदेश

Ad

इंफो उत्तराखंड/देहरादून

उत्तराखंड शिक्षा विभाग द्वारा विद्यालयों में छात्र छात्राओं को निशुल्क पाठ्य पुस्तक उपलब्ध न कराए जाने के संबंध में शिक्षा महानिदेशक बंशीधर तिवारी ने आदेश जारी कर दिया।

शिक्षा महानिदेशक द्वारा जारी किए गए आदेश में विद्यालयी शिक्षा विभाग के अन्तर्गत संचालित राजकीय विद्यालयों में अध्ययनरत समस्त छात्र-छात्राओं को निःशुल्क पाठ्य-पुस्तकें उपलब्ध कराई जाती है।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग न्यूज : सभी विश्वविद्यालयों में लागू होगा समान शैक्षिक कैलेंडर, मंत्री बोले : छात्रों के प्रवेश, परीक्षा, परिणाम, चुनाव व दीक्षांत समारोह में लाई जायेगी एकरूपता

छात्र-छात्राओं को समय पर पुस्तकें उपलब्ध कराने हेतु समय-समय पर निर्देश दिये जाते रहे हैं, किन्तु आज 05 जून, 2022 की समीक्षा बैठक में संज्ञानित हुआ है कि कतिपय विद्यालयों के छात्र-छात्राओं को अभी तक भी निःशुल्क पाठ्य-पुस्तकें उपलब्ध नहीं हो पाई है, जो अत्यंत खेद का विषय है।

जबकि छात्र-छात्राओं को पाठ्य-पुस्तकें उपलब्ध कराया जाना शिक्षण अधिगम प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण अवयव है, जिसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नहीं है।

यह भी पढ़ें 👉  Tripura Elections 2023 : भाजपा ने 48 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट की जारी, देखें पूरी लिस्ट 

शिक्षा विभाग में छात्र-छात्राओं को समयान्तर्गत निःशुल्क पाठ्य-पुस्तकें उपलब्ध कराने पर महानिदेशक, विद्यालयी शिक्षा उत्तराखण्ड सहित उनके अधीनस्थ समस्त अधिकारी (निदेशक, अपर निदेशक, संयुक्त निदेशक मुख्य शिक्षा अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, खण्ड शिक्षा अधिकारी, उप शिक्षा अधिकारी) व कार्मिक (शैक्षिक संवर्ग को छोड़कर), जो निःशुल्क पाठ्य-पुस्तक प्रक्रिया में सम्मिलित हैं, के वेतन आहरण पर तत्काल प्रभाव से रोक लगायी जाती है।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : प्रशासनिक अधिकारियों से वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी के पदों पर विभागीय पदोन्नति को लेकर जारी हुआ बड़ा आदेश, पढ़ें आदेश 

प्रत्येक स्तर से छात्र-छात्राओं को निःशुल्क पाठ्य-पुस्तक वितरण सम्बन्धी प्रमाण पत्र प्राप्त होने व प्राप्त प्रमाण पत्र का भली-भांति परीक्षण व संतुष्ट होने पर ही वेतन आहरण के सम्बन्ध में निर्णय लिया जायेगा।

Ad
Ad
To Top