उत्तराखंड

….ताकि फिर कोई अंकिता न हो, करने होंगे ऐसे प्रयास

Join our WhatsApp Group

*ताकि फिर कोई अंकिता न हो करने होंगे प्रयास*
*महिला सुरक्षा पर अंकिता एक ज्योति संवाद सत्र आयोजित*

अंकिता भंडारी की बरसी पर धाद द्वारा अंकिता के न्याय और महिला सुरक्षा के प्रश्नों को लेकर एक संवाद सत्र का आयोजन प्रेस क्लब मे किया गया। कार्यक्रम मे अंकिता भंडारी को न्याय दिलाने के साथ साथ जो लकड़ियां पढ़ाई या काम के लिए घर से बाहर निकल रही है उन्हें एक सुरक्षित माहौल देने की बात भी प्रमुखता से की गई ।

कार्यक्रम के मुख्य वक्ताओं मे से एक वरिष्ठ पत्रकार संजीव कंडवाल ने कहा कि महिला हिंसा से जुड़ी हर घटना के बाद हम यह संकल्प तो बांधते हैं कि फिर ऐसी कोई वारदात न हो, लेकिन कभी अंकिता, कभी निर्भया तो कभी अंशु नौटियाल के रूप में बार- बार होने वाली ऐसी घटनाएं बताती हैं कि जमीनी स्तर पर अब भी बहुत अधिक बदलाव नहीं आया है।

उन्होंने कहा कि यह कानून व्यवस्था के साथ-साथ अधिक लैंगिक उदंडता का मामला भी है। यह समस्या जाति, धर्म यहां तक की भौगोलिक भिन्नता के बावजूद हर जगह समान रूप से पाई जाती है। अपेक्षाकृत विकसित समझे जाने वाले समाज में भी महिलाओं को यौन हिंसा, सामाजिक हिंसा और सांस्कृतिक हिंसा का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  अच्छी खबर : जोशीमठ तहसील को अब ज्योतिर्मठ (Jyotirmath) के नाम से जाना जायेगा, CM Dhami ने की थी घोषणा 

उन्होंने अंकिता भंडारी के संदर्भ में कहा कि इस घटना ने पहाड़ की लाखों बेटियों के भविष्य को लेकर कई सवाल खड़े किए हैं। अब बड़ी संख्या में बेटियां पढ़ लिखकर आर्थिक रूप से मजबूत बनने के लिए बड़े शहरों में नौकरी के लिए जा रही है, लेकिन वहां उनकी सुरक्षा की गारंटी कौन लेगा? राज्य जिस पर्यटन के क्षेत्र में झंडे गाढ़ने का दावा कर रहा है, क्या वहां महिलाओं को सुरक्षित कामकाजी माहौल मिल पाएगा, यह एक बड़ा सवाल है। खासकर तब जब घूमने फिरने के नाम पर लोगों के मनो मस्तिष्क पर अजीब तरह की आवारगी हावी रहती हो।

उन्होंने कहा कि कोई भी सरकार इस तरह की घटनाएं नहीं होने देना चाहती है, लेकिन दिक्कत यह है कि जब ऐसी घटनाएं हो जाती हैं तो कानून व्यवस्था लागू करने वाली एजेंसियों से लेकर न्याय प्राप्त करने की प्रक्रिया में तक पीड़ित पक्ष ही दबाव में रहता है। जितना जरूरी इस तरह की वारदात पर लगाम लगाना है उतना ही जरूरी ऐसी घटनाओं के बाद एजेसियों के स्तर पर पर्याप्त संवेदनशीलता बरते जाने की भी है।

यह भी पढ़ें 👉  अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस से पूर्व बुद्धा टेम्पल, देहरादून में किया गया योगाभ्यास

महिला मुद्दो की विशेषज्ञ दीपा कौशलम ने कहा यूं तो खुद को सभ्य समझने वाले हमारे समाज में लगातार घटने वाली महिला हिंसा और अपराध की घटनाएं उस समाज के मूल्यों, समझ और धारणाओं पर प्रश्नचिन्ह लगा देती हैं लेकिन अंकिता भंडारी के मामले में अपराधियों का राजनीतिक पृष्ठभूमि से होना एक महत्वपूर्ण पक्ष रहा है, उसी राजनीतिक सत्ता का दुरुपयोग साक्ष्यों को मिटाने और न्यायिक प्रक्रिया को गुमराह करने में किया गया है।

दूसरी बात कोर्ट कचहरी की लंबी और थकान भरी यात्रा की भी है। हमारे देश में दिल्ली गैंगरेप के बाद गठित जस्टिस वर्मा कमेटी के रिकमेंडेशन के बाद भले ही फॉस्ट ट्रैक कोर्ट बनाए गए हों लेकिन प्रक्रिया फास्ट नही है ।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा : सिटी बस का किराया बढ़ाए जाने पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने जताया कड़ा विरोध, सौंपा ज्ञापन

अंकिता के माता पिता अपनी जवान बेटी को खोने के बाद एक दिन ये साबित करते करते थक जाएंगे कि उनकी बेटी के साथ राजनीतिक संरक्षण में अन्याय हुआ है।

हमें इन जटिल व्यवस्थाओं को सुगम और त्वरित करने की आवश्यकता समझनी होगी वरना “Justice delayed is justice denied” वाली बात सच साबित होती रहेगी ।
धाद की ओर से सत्र का संचालन अंकिता एक ज्योति कार्यक्रम की सचिव अर्चना ने किया।

कार्यक्रम मे विभिन्न संस्थाओं जैसे संयुक्त नागरिक संगठन, अस्तित्व, आदि ने भी भाग लिया। कार्यक्रम मे टीम वन यू के के सदस्यो के साथ आशा डोभाल, नीना रावत, मुकुंद कृष्ण,सुशील कुमार त्यागी, पी सी नांगिया, मुकेश नारायण शर्मा, जितेंद्र ढंढोना, ओमवीर सिंह,राजीव पांथरी, रामकृष्ण मुखर्जी, उत्तम सिंह रावत, शिव प्रसाद जोशी, गणेश चन्द्र उनियाल, सुभागा देवी, चंद्रभागा शुकला घनश्याम दत्त भगत, प्रदीप कुकरेती स्वाति डोभाल, सौरव उपस्थित थे।

"सूचीबद्ध न्यूज़ पोर्टल"

सूचना एवं लोक संपर्क विभाग, देहरादून द्वारा सूचीबद्ध न्यूज़ पोर्टल "इंफो उत्तराखंड" (infouttarakhand.com) का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड सत्य की कसौटी पर शत-प्रतिशत खरा उतरना है। इसके अलावा प्रमाणिक खबरों से अपने पाठकों को रुबरु कराने का प्रयास है।

About

“इन्फो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) प्रदेश में अपने पाठकों के बीच सर्वाधिक विश्वसनीय न्यूज पोर्टल है। इसमें उत्तराखंड से लेकर प्रदेश की हर एक छोटी- बड़ी खबरें प्रकाशित कर प्रसारित की जाती है।

आज के दौर में प्रौद्योगिकी का समाज और राष्ट्र के हित में सदुपयोग सुनिश्चित करना भी आपने आप में चुनौती बन रहा है। लोग “फेक न्यूज” को हथियार बनाकर विरोधियों की इज्ज़त, और सामाजिक प्रतिष्ठा को धूमिल करने के प्रयास लगातार कर रहे हैं। हालांकि यही लोग कंटेंट और फोटो- वीडियो को दुराग्रह से एडिट कर बल्क में प्रसारित कर दिए जाते हैं। हैकर्स बैंक एकाउंट और सोशल एकाउंट में लगातार सेंध लगा रहे हैं।

“इंफो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) इस संकल्प के साथ सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर उतर रहा है, कि बिना किसी दुराग्रह के लोगों तक सटीक जानकारी और समाचार आदि संप्रेषित किए जाएं। ताकि समाज और राष्ट्र के प्रति जिम्मेदारी को समझते हुए हम अपने उद्देश्य की ओर आगे बढ़ सकें। यदि आप भी “इन्फो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) के व्हाट्सऐप व ईमेल के माध्यम से जुड़ना चाहते हैं, तो संपर्क कर सकते हैं।

Contact Info

INFO UTTARAKHAND
Editor: Neeraj Pal
Email: [email protected]
Phone: 9368826960
Address: I Block – 291, Nehru Colony Dehradun
Website: www.infouttarakhand.com

To Top