सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट घसियारी को नहीं मिल पा रहा संरक्षण। यहां पुलिस ने चारा-पत्ती छीनकर कर दिया चालान

सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट घसियारी को नहीं मिल पा रहा संरक्षण। यहां पुलिस ने चारा-पत्ती छीनकर कर दिया चालान

नीरज पाल 

उत्तराखंड के सीमांत जनपद चमोली से पहाड़ों की दास्तान वाली खबर सामने आ रही है, जहां राज्य के गठन के 21 साल पूर्ण हो चुके है। वहीं महिलाएं आज भी अपने हक के लिए जुझती हुई नजर आ रही है।

वहीं कुछ महिला जंगल से घास लेकर आ रही थी, तभी कुछ पुलिस व सीआईएसएफ वालों ने उन्हें रोकर उनसे घास छीनने का प्रयास किया, बल्कि उन्हें थाना ले जाकर उनका चालान भी किया गया।

देखें वीडियो :-

वहीं यह वीडियो चमोली जिले के हेंलंग का है, जहाँ THDC कम्पनी की जल विद्युत परियोजना का काम चल रहा है। वहीं वर्षों से जहाँ गाँव के लोग अपने पालतू- पशुओं के लिए जिन चारागाह से चारापत्ती काटते थे अब उस पर भी रोक लगा दी गई है।

बीते 15 जुलाई को इसी मामले में स्थानीय महिलाओं से सीआईएसएफ और स्थानीय पुलिस ने नोकझोंक भी की औऱ उनको उठाकर नजदीकी पुलिस स्टेशन भी ले जाया गया जहां बाद में उनका चालान भी हुआ। ग्रामीणों ने बताया कि THDC द्वारा उनके पारंपरिक चारागाह को खत्म किया जा रहा है ।

वहीं बताया जा रहा है कि जहां चारागाह था वहां अब फिलहाल मिट्टी डंप की जा रही है औऱ भविष्य में यहाँ खेल मैदान बनेगा। ग्रामीण युवक ने बताया कि खेल मैदान बनाने का यहाँ कोई औचित्य नही है हमारे लिए तो पशुओं के लिए चारापत्ती का इंतज़ाम करना प्राथमिकता है।

वहीं प्रधान हेलंग तथा सरपंच वन पंचायत हेलंग द्वारा जिलाधिकारी चमोली को एक शिकायती पत्र के माध्यम से अवगत कराया गया है, कि दो-तीन परिवारों द्वारा वन पंचायत की सार्वजनिक भूमि पर निर्माण कार्य में बाधा डाली जा रही है।

उत्तराखंड