उत्तराखंड

ब्रेकिंग : उत्तराखंड में सीजनल इन्फ्लुएन्जा (H1N1, H3 N2) वायरस के नियंत्रण एवं रोकथाम को लेकर जारी हुई एडवाइजरी, पढ़ें लक्षण और बचाव के उपाय…

Join our WhatsApp Group
  • सीजनल इन्फ्लुएन्जा (H1N1, H3 N2 इन्फ्लुएन्जा, इन्फ्लुएन्जा बी, एडिनो वायरस के नियंत्रण एवं रोकथाम को लेकर जारी हुई एडवाइजरी, पढ़ें लक्षण और बचाव के उपाय…

इन्फो उत्तराखण्ड/देहरादून

उत्तराखंड में सीजनल इन्फ्लुएन्जा (एच1एन1, एच3 एन2 इन्फ्लुएन्जा, इन्फ्लुएन्जा बी, एडिनो वायरस को नियंत्रण एवं रोकथाम को लेकर एसओपी जारी कर दी गई है। इस संबंध में अपर सचिव स्वास्थ्य अमनदीप कौर ने आदेश जारी किया है।

जारी किए गए आदेश के अनुसार स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के पत्रांक-DO.NO. 2.28015 / 146/2021 DM Cell दिनांक 11.03.2023 का सन्दर्भ ग्रहण करें जिसके द्वारा अवगत कराया गया है, कि वर्तमान में विभिन्न राज्यों में सीजनल इन्फ्लुएंजा ग्रुप के एच1एन1, एच3 एन2 इन्फ्लुएन्जा, इन्फ्लुएन्जा बी, एडिनो वायरस इत्यादि प्रसारित हो रहे हैं, व जनस्वास्थ्य समस्या के रूप में परिलक्षित हो रहे हैं।

अवगत होना चाहें कि माह जनवरी से माह मार्च तक आमतौर पर सीजनल इन्फ्लूएंजा वायरस का प्रसारण होता है। इस अवधि में निम्न सतर्कता एवं सावधानी बरती जानी आवश्यक हैं :-

1. चिकित्सालय स्तर पर Influenza like Illness (ILI) / Severe Acute Respiratory Illness ( SARI) की सघन निगरानी की जाये ताकि शुरूआती चरण में ही चिन्हित कर इन्फ्लुएन्जा आउटब्रेक को प्रसारित होने से रोका जा सके एवं प्रत्येक रोगियों की सूचना अनिवार्य रूप से आई0डी0एस0पी0 के अंतर्गत Integrated Health Information Platform (IHIP) पोर्टल में प्रविष्ट किया जाये।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : प्रो0 राकेश कुमार ढोडी (Rakesh Kumar Dhodi) बने HNB गढ़वाल विश्वविद्यालय के कुलसचिव

2. सीजनल इन्फ्लूएंजा के अधिकांश रोगियों में बुखार व खांसी के सामान्य लक्षण होते हैं, जो कि स्वतः ही ठीक हो जाते हैं। हालाँकि अन्य रोगों (जैसे Chronic Obstructive Pulmonary Disease, मधुमेह, हृदय रोग, क्रोनिक रीनल और लीवर डिजीज आदि) से ग्रसित लोग वृद्ध लोग, गर्भवती महिलाएं मोटापे से ग्रस्त एवं बच्चों आदि में विशेष सावधानियां बरतने की आवश्यकता होती है ।

3. सीजनल इन्फ्लुएन्जा के संचरण को रोकने के लिए व्यक्तिगत स्वच्छता के बारे में सामुदायिक जागरूकता बढ़ाना महत्वपूर्ण है जैसे हाथ धोना, खांसी या छींक आने पर अपने मुंह और नाक को टिश्यू से ढकना, सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से बचना, भीड़भाड़ वाले वातावरण में मास्क का उपयोग करना आदि।

4. सीजनल इन्फ्लुएन्जा के प्रभावी नियंत्रण एवं उपचार हेतु भारत सरकार द्वारा प्रदत्त गाइडलाईन (इन्फ्लुएन्जा रोगियों के वर्गीकरण, clinical management protocol, providing home care, sample collection) संलग्न कर सूचनार्थ एवं आवश्यक कार्यवाही हेतु आपको प्रेषित की जा रही है। वर्तमान में इन्फ्लुएंजा के Sub types की जांच के लिए राजकीय मेडिकल कॉलेज देहरादून एवं हल्द्वानी, नैनीताल में सुविधा उपलब्ध है।

5. जनपद के जिला/बेस/संयुक्त चिकित्सालयों में सीजनल इन्फ्लुएन्जा के मरीजों के उपचार हेतु पर्याप्त आईसोलेशन बेड/ वार्ड/आई०सी०यू०/वेन्टिलेटर इत्यादि की व्यवस्था सुनिश्चित रखें। किसी फिजीशियन/चिकित्सक को चिकित्सालय के आईसोलेशन वार्ड का नोडल अधिकारी नियुक्त करें तथा उनके नाम व कान्टेक्ट नं0 (मोबाइल) एवं आईसोलेशन वार्ड में बेड़ों की संख्या से अधोहस्ताक्षरी कार्यालय को अवगत करायें।

यह भी पढ़ें 👉  अच्छी खबर : जोशीमठ तहसील को अब ज्योतिर्मठ (Jyotirmath) के नाम से जाना जायेगा, CM Dhami ने की थी घोषणा 

सीजनल इन्फ्लुएन्जा प्रबन्धन व रोकथाम हेतु समस्त चिकित्सालयों (जिला/बेस/संयुक्त/सी०एच०सी० पी०एच०सी० स्तर तक) में आवश्यक औषधियों (Oseltamivir Cap./ Syp.) व सामग्री (PPE, N 95 Mask, VTM etc) की उपलब्धता सुनिश्चित रखी जाये।

7. सीजनल इन्फ्लुएन्जा प्रबन्धन के अन्तर्गत समय से केस/रोगी की पहचान, त्वरित उपचार व मरीज की गम्भीर हालत/ आपातकाल में समय से रेफरल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये।

8. यद्यपि राज्य में पिछले कुछ दिनों में कोविड-19 संक्रमण में कमी दर्ज की गई है परन्तु कोविड 19 संक्रमण को प्रसारित होने से रोकने एवं समुचित प्रबंधन के लिए अभी भी सतर्क रहने और पांच सूत्री रणनीति जांच, निगरानी, उपचार, टीकाकरण तथा कोविड एप्रोप्रियेट व्यवहार पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

9. सीजनल इन्फ्लुएन्जा के प्रति जन जागरूकता हेतु विभिन्न माध्यमों के द्वारा व्यापक प्रचार प्रसार/IEC गतिविधियां की जायें। सीजनल इन्फ्लूएंजा के प्रति आमजनमानस में किसी भी प्रकार की भ्रांति पैदा होने से रोका जाए। बचाव के उपायों (संलग्न) पर जागरूकता की जाए।

10. सीजनल इन्फ्लुएन्जा संदिग्ध मृत्यु की समीक्षा भारत सरकार द्वारा प्रदत प्रारूप (संलग्न) के अनुसार करें ताकि मृत्यु के वास्तविक व तथ्यात्मक कारण का पता चल सके। संदिग्ध मृत्यु की समीक्षा हेतु आडिट कमेटी का गठन कर डेथ आडिट रिपोर्ट तीन कार्य दिवसों के अन्दर राज्य स्तर को उपलब्ध करायें।

यह भी पढ़ें 👉  अल्मोड़ा : जन सुविधा केंद्र में अभी भी पुराने सिस्टम पर चल रहे हैं सभी कार्य : संजय पांडे 

11. सीजनल इन्फ्लूएंजा के नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु सचिव स्वास्थ्य भारत सरकार द्वारा प्रेषित दिशानिर्देश इस पत्र के साथ संलग्न कर प्रेषित किए जा रहे हैं।

अतः उपरोक्तानुसार आवश्यक कार्यवाही करने का कष्ट करें।

वायरस के लक्षण :-

  • एक सप्ताह या इससे अधिक दिन तक बुखार।
  • नाक से पानी आना।
  • सिर में दर्द रहना।
  • उल्टी महसूस होना।
  • भूख का कम होना।
  • शरीर में दर्द रहना।
  • बुखार भी तेज होना।
  • खांसी काफी समय तक रहना।
  • बलगम की परेशानी बढ़ना।

ऐसे करें इन्फ्लूएंजा से बचाव :-

  • बाहर निकलते समय या ऑफिस में हमेशा फेस मास्क पहनें।
  • खांसते या छींकते समय नाक और मुंह को अच्छी तरह कवर करें।
  • भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें।
  • हाथों को समय-समय पर पानी और साबुन से धोते रहें।
  • खुद को हाइड्रेट रखें, पानी-फ्रूट जूस या अन्य पेय पदार्थ लेते रहें।
  • नाक और मुंह छूने से बचें।
  • पब्लिक प्लेस पर न थूके और न ही हाथ मिलाएं।
  • किसी भी तरह के शारीरिक संपर्क से बचें।
  • डॉक्टर की सलाह लिए बगैर एंटीबायोटिक न लें।

"सूचीबद्ध न्यूज़ पोर्टल"

सूचना एवं लोक संपर्क विभाग, देहरादून द्वारा सूचीबद्ध न्यूज़ पोर्टल "इंफो उत्तराखंड" (infouttarakhand.com) का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड सत्य की कसौटी पर शत-प्रतिशत खरा उतरना है। इसके अलावा प्रमाणिक खबरों से अपने पाठकों को रुबरु कराने का प्रयास है।

About

“इन्फो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) प्रदेश में अपने पाठकों के बीच सर्वाधिक विश्वसनीय न्यूज पोर्टल है। इसमें उत्तराखंड से लेकर प्रदेश की हर एक छोटी- बड़ी खबरें प्रकाशित कर प्रसारित की जाती है।

आज के दौर में प्रौद्योगिकी का समाज और राष्ट्र के हित में सदुपयोग सुनिश्चित करना भी आपने आप में चुनौती बन रहा है। लोग “फेक न्यूज” को हथियार बनाकर विरोधियों की इज्ज़त, और सामाजिक प्रतिष्ठा को धूमिल करने के प्रयास लगातार कर रहे हैं। हालांकि यही लोग कंटेंट और फोटो- वीडियो को दुराग्रह से एडिट कर बल्क में प्रसारित कर दिए जाते हैं। हैकर्स बैंक एकाउंट और सोशल एकाउंट में लगातार सेंध लगा रहे हैं।

“इंफो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) इस संकल्प के साथ सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर उतर रहा है, कि बिना किसी दुराग्रह के लोगों तक सटीक जानकारी और समाचार आदि संप्रेषित किए जाएं। ताकि समाज और राष्ट्र के प्रति जिम्मेदारी को समझते हुए हम अपने उद्देश्य की ओर आगे बढ़ सकें। यदि आप भी “इन्फो उत्तराखंड” (infouttarakhand.com) के व्हाट्सऐप व ईमेल के माध्यम से जुड़ना चाहते हैं, तो संपर्क कर सकते हैं।

Contact Info

INFO UTTARAKHAND
Editor: Neeraj Pal
Email: [email protected]
Phone: 9368826960
Address: I Block – 291, Nehru Colony Dehradun
Website: www.infouttarakhand.com

To Top