उत्तराखंड

गर्व : पहाड़ की इस बिटिया ने इंटरमीडिएट में प्राप्त किया सर्वोच्च स्थान। सीएम धामी ने दी बधाई

Ad
लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की हार नहीं होती। 

देहरादून/ इंफो उत्तराखंड

उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा के इंटरमीडिएट का परीक्षा फल आज घोषित हो गया है। जिसमें धर्मनगरी हरिद्वार कि दिया राजपूत ने इंटरमीडिएट में 97 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तराखंड टॉप में किया है। बल्कि अपने मां-बाप का भी नाम रोशन किया।

प्रदेश की संयुक्त श्रेष्ठता सूची मायापुर, हरिद्वार की छात्रा कु० दिया राजपूत ने इंटरमीडिएट में परीक्षा में 485/500, कुल 97.00 प्रतिशत अंक प्राप्त कर सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया ।

यह भी पढ़ें 👉  Big breaking : प्रभावित को धनराशि समय पर न दिए जाने पर भड़के Satpal maharaj, अधिकारियों को जमकर लगाई क्लास, देखें Video 

जबकि दूसरे स्थान पर चमोली जिले के छात्र  अंशुल बहुगुणा ने इंटरमीडिएट परीक्षा में  484/500, कुल 96.80 अंकों के साथ दूसरा स्थान प्राप्त किया।

और वहीं बागेश्वर के सुमित सिंह मेहता ने इण्टरमीडिएट परीक्षा में 483/500, कुल 96.60 प्रतिशत अंक प्राप्त कर संयुक्त रूप से तृतीय स्थान प्राप्त किया।

उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा में इस बार लड़कियों ने लड़कों से ज्यादा अंक लाकर बाजी मारी। वहीं प्रदेश में लड़कियों के उत्तीर्ण परीक्षा प्रतिशत 85.38 रहा, जबकि लड़कों का शत प्रतिशत 79.74 रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  गुड न्यूज : UKPSC ने पटवारी/लेखपाल भर्ती परीक्षा के प्रवेश पत्र (Admit card) किए जारी, 12 फरवरी को होगी परीक्षा, ऐसे करें अपना Admit card डाउनलोड..

उत्तराखण्ड विद्यालयी शिक्षा परिषद की परीक्षा में सफल छात्रों को मुख्यमंत्री ने दी बधाई।

मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखण्ड विद्यालयी शिक्षा परिषद की 10वीं एवं 12वीं की परीक्षा में सफल हुए छात्रों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 12वीं की परीक्षा में सफल हुए छात्र उच्च शिक्षण संस्थानों का हिस्सा बनकर देश व समाज की सेवा के लिये अपनी सक्षमता साबित करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारे युवा छात्र देश के भावी नागरिक है। उन्होंने सभी की उज्ज्वल भविष्य की भी कामना की है।

यह भी पढ़ें 👉  7th Pay Commission : केंद्रीय कर्मचारियों को होली से पहले मिलेगी खुशखबरी, जानिए कितना बढ़ सकता है DA

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन छात्रों का परीक्षा परिणाम उनकी आशा के अनुकूल नही रहा वे हतास एवं निराश न हो बल्कि दुगने उत्साह के साथ आगामी परिक्षा की तैयारी में जुट जाय। पूरे मनोयोग से यदि असफलता का सामना किया जाय तो सफलता अवश्य मिलती है।

मुख्यमंत्री ने विद्यालयी परीक्षा आयोजन से जुड़े अध्यापकों एवं कार्मिकों को भी बधाई दी है।

To Top