बड़ी खबर : फर्जी अस्पतालों की अब खैर नहीं, अब होगी सख्त कार्रवाई

बड़ी खबर : फर्जी अस्पतालों की अब खैर नहीं, अब होगी सख्त कार्रवाई

हरिद्वार/इंफो उत्तराखंड

जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय को दूरभाष पर पिंकी की मृत्यु के सम्बन्ध में उनके पति भारत पुत्र स्व0 धीर सिंह निवासी ग्राम डोसनी, कोतवाली लक्सर जनपद हरिद्वार द्वारा डा0 ईश्वर पाल एवं डा0 पूजा, डा0 भीमराव अम्बेडकर चेरिटेबल हास्पिटल (ट्रस्ट), पुरकाजी रोड, लक्सर के विरूद्ध शिकायत प्राप्त होने पर जिलाधिकारी द्वारा तत्काल मुख्य चिकित्साधिकारी, हरिद्वार को जांच समिति गठित करने हेतु आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये ।

 

 

जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशों के क्रम में मुख्य चिकित्साधिकारी, हरिद्वार द्वारा डा0 विवेक तिवारी, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी, डा0 अनिल वर्मा, चिकित्सा अधीक्षक, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, लक्सर तथा आशीष शर्मा, विकासखण्ड कार्यक्रम प्रबन्धक, एन0एच0एम0 लक्सर की तीन सदस्यीय टीम गठित कर तत्काल पिंकी की मृत्यु के सम्बन्ध में उक्त प्रकरण की जांच किये जाने के निर्देश दिये गये।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : उत्तराखंड सिंचाई विभाग में इन अधिकारियों के बंपर प्रमोशन (promotion)। देखें सूची

 

 

जांच समिति द्वारा दिनांक 16 अप्रैल,2022 को प्रेषित अपनी रिपोर्ट में उल्लेख किया गया कि निरीक्षण के दौरान अस्पताल खुला पाया गया, किन्तु अस्पताल में संचालक श्री ईश्वर पाल के अतिरिक्त अन्य कोई डाक्टर व कर्मचारी उपस्थित नहीं पाया गया तथा अस्पताल के सभी विभागों में अव्यवस्था एवं सुविधायें मानकों के अनुरूप नहीं पायी गयी ।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : चारधाम यात्रियों के लिए पंजीकरण की फर्जी अफवाहों पर महाराज (Maharaj) का बड़ा बयान। देखें वीडियो

 

 

सम्बन्धित चिकित्सक के उपस्थित न होने के कारण बयान सम्भव नहीं हो पाया तथा मृतका पिंकी देवी से सम्बन्धित सभी दस्तावेजों को जब्त कर लिया गया तथा भविष्य में ऐसी अप्रिय घटना की पुनरावृत्ति न हो जिलाधिकारी के निर्देश पर जांच समिति द्वारा तत्काल अस्पताल को सीज कर दिया गया है। जिलाधिकारी एवं अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) ने कहा है कि जनपद में फर्जी अस्पताल, डाक्टर तथा झोला छाप डाक्टरों के खिलाफ निरन्तर कार्यवाही की जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग : इन 12 इंस्पेक्टरों के स्थानांतरण (transfer), मैदान से पहाड़ भेजे। देखें सूची

 

 

उन्होंने समस्त जनता से अपील है कि इस प्रकार के प्रकरण संज्ञान में आने पर तत्काल इसकी सूचना जिलाधिकारी, जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग को दें, ताकि जनपद में संचालित ऐसे फर्जी अस्पताल, डाक्टर व झोला छाप डाक्टरों के प्रति सख्त से सख्त कार्यवाही की जा सके, ताकि भविष्य में किसी के जीवन के साथ कोई खिलवाड़ न हो सके । ऐसे फर्जी अस्पताल व डाक्टरों के खिलाफ जिला प्रशासन द्वारा निरन्तर अभियान चलाया जा रहा है ।

उत्तराखंड