Breaking News : महाराज ने दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन “मंथन” में किया प्रतिभाग, कहा राज्य में टनल्स और पहाडों पर सीमेंटेड सड़कों के निर्माण की करें पैरवी 

Breaking News : महाराज ने दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन “मंथन” में किया प्रतिभाग, कहा राज्य में टनल्स और पहाडों पर सीमेंटेड सड़कों के निर्माण की करें पैरवी 

महाराज ने किया बेंगलुरु “मंथन” में प्रतिभाग

लोक निर्माण मंत्री ने प्रदेश में सड़कों के लिए टनल बनाए जाने की बात कही

बेंगलुरु/देहरादून।

प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री सतपाल महाराज ने कर्नाटक के बेंगलुरु में केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन “मंथन” में प्रतिभाग कर राज्य में टनल्स और पहाडों पर सीमेंटेड सड़कें सड़कों के निर्माण की पैरवी की।

कर्नाटक के बेंगलुरु में केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन “मंथन” शुभारंभ अवसर पर गुरुवार को प्रदेश के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने प्रतिभाग कर राज्य की ओर प्रतिनिधित्व किया। 8 और 9 सितम्बर 2022 तक चलने वाले इस “मंथन” शिविर में देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री भाग ले रहे हैं।

अवसर पर लोक निर्माण मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि बेंगलुरु में केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन “मंथन” में सभी राज्यों के दूरस्थ क्षेत्रों के लिए अंतिम मील कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने के साथ साथ राज्य में सड़कों के निर्माण में नई तकनीकी के इस्तेमाल और सुरक्षा की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है।

लोक निर्माण मंत्री महाराज उत्तराखंड की विषम भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए अपना मंतव्य प्रकट करते हुए कहा कि पहाड़ों में अधिकांश स्थानों पर गांव सड़कों के ऊपर बसे हैं जिस कारण वायब्रिंग होती है और गांव को खतरा उत्पन्न होता है।

उन्होंने जनपद पौड़ी के गुमखाल का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां पर भी यही स्थिति उत्पन्न हो रही है इसलिए नेशनल हाईवे निर्माण मानकों में स्थित है बता देते हुए 24 मीटर के स्थान पर 14 मीटर एक्वायर किया जाए जिससे कि गांव बचे रहें।

महाराज ने इस अवसर पर कहा कि मंथन में उच्च तकनीक जानकारी दी जा रही है जो कि हमारे उत्तराखंड के लिए बहुत उपयोगी है। उन्होंने यह भी कहा कि उत्तराखंड के अंदर टनल्स बने ताकि लोग शीघ्रता के साथ अपने गंतव्य तक पहुंच सके।

नई तकनीक को लेकर हमें कार्बन कंटेंट को कम कर करना है। निश्चित रूप से मंथन शिविर में बताई गई नई तकनीक के समावेश से हमारे पहाड़ों में सड़कों का समुचित विकास संभव हो पाएगा।

प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री महाराज ने कहा कि हम चाहते हैं कि पहाड़ों पर सीमेंटेड सड़कें बने जिससे हिमपात वाले स्थानों में हमारी सड़कें शुद्र ग्रह और यातायात सुचारू रूप से चल सके।

महाराज ने केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी इस आयोजन के लिए आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इस मंथन में विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के अनुभव व एक दूसरे के सहयोग पर भी चर्चा की गई जिससे कि मंत्रालय और गडकरी की एक सकारात्मक पहल कहा जा सकता है।

हिल न्यूज़