खबर का असर : घायल पुलिसकर्मी का वीडियो बनाने वाला चीता पुलिस कर्मी को SSP ने किया सस्पेंड। सीईओ डोईवाला करेंगे जांच

खबर का असर : घायल पुलिसकर्मी का वीडियो बनाने वाला चीता पुलिस कर्मी को SSP ने किया सस्पेंड। सीईओ डोईवाला करेंगे जांच

देहरादून/इंफो उत्तराखंड 

बीते दिनों हर्रावाला में रविवार शाम को हुए सड़क हादसे में हेड कांस्टेबल राकेश राठौर की मौत के मामले में देहरादून एसएसपी जन्मेजय खंडूड़ी ने चीता पुलिसकर्मी को निलंबित कर दिया है।

साथ ही पीआरडी जवान को मूल तैनाती पीआरडी निदेशालय में वापस भेज दिया गया। एसएसपी ने सीओ डोईवाला को पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

चीता पुलिस व पीआरडी की लापरवाही से गई जान 

बीते दिनों हर्रावाला में हुई घटना के बाद पुलिस ने सीसीटीवी फोटेज व वायरल वीडियो के माध्यम से देखा कि हेड कॉन्स्टेबल राकेश राठौर सड़क पर घायल अवस्था में पड़ा हुआ है, तभी घायल व्यक्ति को देख मौके पर मौजूद लोगों ने तत्काल इस मामले की सूचना पुलिस को दी। जिसके बाद सूचना मिलते ही चीता पुलिस का जवान व पीआरडी कर्मी के साथ मौके पर घटनास्थल के लिए रवाना हो गए।

मौके पर पहुंची पुलिस कर्मी व पीआरडी जवान ने पुलिसकर्मी  घायल जवान को हॉस्पिटल ले जाने के बजाय उसका वीडियो बनाते रहे। शायद यदि पुलिसकर्मी एंबुलेंस का इंतजार न करने के बजाय उसे सीधा हॉस्पिटल ले जाते तो शायद आज राकेश राठौर जिंदा होते हैं।

वायरल वीडियो से आई पुलिस कर्मी व पीआरडी जवान की हकीकत सामने

वीडियो में साफ दिख रहा है कि राकेश राठौर घायल अवस्था में दर्द से कहरा रहा था, लेकिन पुलिस कर्मी की इतनी हिम्मत नहीं हुई कि उसे उठा कर हॉस्पिटल ले जाए। हालांकि जब उसे हॉस्पिटल ले जाया गया तो तब तक काफी देर हो चुकी थी, और डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

हालांकि ये वीडियो जब सोशल मीडिया में वायरल हुआ तो इस पर देहरादून एसएसपी ने संज्ञान लेते हुए चीता पुलिसकर्मी को निलंबित कर दिया है जबकि पीआरडी जवान को मूल तैनाती पीआरडी निदेशालय में वापस भेज दिया गया।

साथ ही सीओ डोईवाला अनिल शर्मा को मामले की जांच के आदेश दिए। जांच रिपोर्ट के आधार पर ही आगे की कार्यवाही की जाएगी‌।

उत्तराखंड