बड़ी खबर : VPDO परीक्षा धांधली मामले में STF ने शिक्षक को किया गिरफ्तार, चार दलाल भी रडार पर

बड़ी खबर : VPDO परीक्षा धांधली मामले में STF ने शिक्षक को किया गिरफ्तार, चार दलाल भी रडार पर

देहरादून/ इंफो उत्तराखंड 

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के द्वारा पेपर लीक मामले में पूर्व में विजिलेंस से जांच ट्रांसफर होने के बाद stf ने ग्राम विकास अधिकारी (वीपीडीओ) परीक्षा धांधली मामले में एक और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं आरोपी धूमाकोट के एक सरकारी स्कूल का शिक्षक है।

एसटीएफ के मुताबिक ग्राम पंचायत विकास अधिकारी की परीक्षा वर्ष 2016 में हुई थी। जिसके बाद इस परीक्षा में धांधली का पता चलने पर शासन स्तर पर जांच कराई गई। वहीं 2016 से वर्ष 2019 में दिसंबर तक इसकी जांच चली।

ग्राम पंचायत विकास अधिकारी की परीक्षा में धांधली की पुष्टि होने के बाद इसे विजिलेंस को भेज दिया गया। जिसके बाद विजिलेंस ने जनवरी 2020 में इस मामले में मुकदमा दर्ज किया। मगर, अब तक किसी भी आरोपी को पकड़ नहीं पाई।

वहीं अब मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर इस मुकदमे की विवेचना भी एसटीएफ से कराने पर सहमति बनी।

शासन के निर्देश पर इस मुकदमे को पिछले दिनों एसटीएफ को सौंपी गई थी, जिसमें जांच के दौरान फोरेंसिक प्रयोगशाला से ओएमआर शीट की जांच रिपोर्ट भी मंगाई गई। इसमें पुष्टि हो चुकी थी कि ओएमआर शीट में छेड़छाड़ की गई है।

Stf के एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि इन सब साक्ष्यों के आधार पर शुक्रवार को एक आरोपी मुकेश कुमार शर्मा निवासी मोहल्ला वसंत विहार, गिरीताल, काशीपुर, ऊधमसिंह नगर को गिरफ्तार किया गया है। वह छुलसिया, धूमाकोट, पौड़ी गढ़वाल स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक है।

चार दलाल भी रडार पर

इस मामले में मुकेश से एसटीएफ को अहम जानकारियां मिली हैं।बताया जा रहा है कि जिन लोगों के पास ओएमआर शीट थी, उनके नाम भी मुकेश शर्मा ने बताए हैं।

वे आयोग के थे या फिर किसी और संस्था के, यह अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। एसटीएफ ने चार लोगों को रडार पर लिया है। जल्द ही इनमें से भी कुछ की गिरफ्तारी हो सकती है।

उत्तराखंड